प्यार क्या है ❤️? ( what is love )

प्यार शब्द सुनते ही सभी के दिमाग में यह जरूर  आया होगा ।
एक लड़का और एक लड़की मतलब वह बोलते है ना दो हंसो का जोड़ा यही है प्यार । 

क्या सिर्फ इसे ही प्यार बोलते है फिर वह क्या होता है जो एक लड़का और एक लड़की अपने माता - पिता से करते है या एक भाई बहन एक दूसरे से करते है क्या आपकी नज़रों में ये प्यार नहीं है अगर आपकी नज़रों में ये प्यार नहीं है तो शायद अपने कभी किसी से प्यार ही नहीं करा होगा ।

प्यार होता क्या है ?

क्या वह प्यार नहीं है जो आप अपने फोन से करते है ? क्या वह प्यार नहीं है जो आप अपने कपड़ों से करते है ? क्या वह प्यार नहीं है जो अपने घर के चीजों से करते है ? अगर अपने कभी इन चीजों के बारे में नहीं सोचा तो सच में अपने कभी प्यार के सही मतलब को नहीं समझा ।

आज के इस युग में हर तरह क्या प्यार है आज प्यार के मतलब ही बदल गए है और आज कल तो बात यहां तक पहुंच गई है लोग अपने आप से ही प्यार करना बंद कर दिया है । गौतम बुद्ध ने कहा है जो इंसान खुद से प्यार नहीं करता वह इंसान नहीं होता । 

इस दुनिया में कई तरह से लोग अपने प्यार को दिखात
 है मगर इस दुनिया में एक प्यार ऐसा भी है जो सबसे अलग है आज तक उस प्यार के मतलब नहीं बदले लोगो ने प्यार के मतलब ही बदल दिए है मगर आज भी इस प्यार का मतलब नहीं बदला ।

वह प्यार है एक पिता का अपने बेटी पर और बेटी का अपने पिता पर यह जो प्यार है ना उसको शब्दों में बयान नहीं किया जा सकता है कभी सोचा है कि जब भारत में लड़की की शादी होती है उसके बाद उसकी विदाई होती है तो सबसे ज्यादा कौन रोता है वह पिता ही होता है 

एक छोटी सी कहानी  है  किसी देश में एक  राजा था उसकी तीन लड़कियां थी ओरो को चाह थी पर पूरी नहीं हो सकी पर वह तीनों बेटियों को पा कर बहुत खुश था राजा की जो सबसे छोटी बेटी थी उसे वह बहुत प्यार करता था और राजा कि वह बहुत प्रिय थी तीनों बेटियों में वह उसे सबसे ज्यादा प्यार करता था । समय के बिता गया और उसका प्यार अपने बेटियों पर बड़ता ही गया और वह समय आ गया जब इनकी शादी करनी थी । राजा ने बहुत से राजकुमारों को देखा और दो बेटियों कि सबसे अच्छी जगह शादी करवा दी और वह दोनों बहुत खुश थी


दोनों बेटियों की शादी के बाद छोटी बेटी बच गई थी क्योंकि राजा छोटी बेटी से बहुत प्यार करता था तो अच्छे से अच्छे राज्य में शादी करवाना चाहता था इसलिए ये बच गई ।

समय के साथ राजा भी कमजोर हो रहा था उसने सोचा कि अपना राज्य अपनी बेटियों में बांट दूं । अपनी तीनों बेटियों को बुलाया और उनसे पूछा कि में एक सवाल पूछता हूं उसका जवाब देना है तभी मैं अपना राज्य तुम्हें दूंगा । राजा ने पूछा की  तीनों बेटियों में मुझे से कौन सबसे अधिक प्यार करता है ।
ये सवाल सुनते ही सब चौक गए को यह कैसा सवाल है पर जवाब तो देना ही था तो सबसे बड़ी बेटी ने बोला कि " मैं इतना प्यार करती हूं जितना विश्व में किसी और से नहीं करती हूं दुनिया में सबसे अधिक प्रिय हैं ।" ये जवाब सुनते ही राजा बहुत खुश हुआ और राजा ने अपने राज्य का एक हिस्सा अपनी बड़ी बेटी को दे दिया ।

अब दूसरी बेटी के जवाब का इंतज़ार था उसने बहुत सोचा कि क्या जवाब दूं । बहुत सोचने के बाद उसने अपना जवाब दिया कि " पिता जी दीदी ने तो दो है शब्द बोला है मगर मैं आप से इतना प्यार करती हूं कि अगर में जीवन भर भी बोलती रहूं को मैं आप से कितना प्यार करती हूं तो ये जीवन भी काम पड़ जाएगा कि मै आप से कितना प्यार करती हूं ।" ये जवाब सुन कर राजा बहुत खुश हुआ और अपने राज्य का एक हिस्सा दूसरी बेटी को दे दिया।

अब राजा को जिसके जवाब के लिए सबसे अधिक इंतजार था वह समय आ गया अब सभी को राजा कि सबसे छोटी बेटी के जवाब का इंतज़ार था क्योंकि राजा को अपनी छोटी बेटी से बहुत प्रेम था और वह राजा की बहुत प्रिय भी थी ।

राजा की तीसरी बेटी ने देखा कि उसकी दोनो बहनों ने हिस्से के लालच के लिए पिताजी से सिर्फ झूठ बोला है और प्यार का दिखावा कर रही है और राजा ने इनकी बातो पर विश्वास भी कर लिया है । 

तीसरी बेटी ने सिर्फ ये बोला की " पिता जी में आप से इतना प्यार करती हूं जितना एक बेटी को आपने पिता से करनी चाहिए । " ये जवाब सुनते ही राजा बहुत ही गुस्से में आ गया और तीसरी बेटी का हिस्सा भी दोनों बेटियों में बांट दिया ।

बेटी ने राजा से बोला कि पिता जी मैं अपनी दोनों बहनों कि तरह झूठ नहीं बोलना चाहती ऐसा झूठ क्यों बोलूं जो बाद में उसको निभा ना सकु पर पिता जी एक बेटी को अपने पिता से और पिता को बेटी से जितना प्यार होना चाहिए उतना जरूर करती हूं । बहनों जो भी बाते बोली है कि वह आपसे कितना प्यार करती है तो पिता जी जो वह अपने बच्चों से और अपने पति से जो प्यार करती है वह झूठ है या जो आपसे प्यार करती हैं वह झूठ है क्योंकि अगर वह आपसे ज्यादा प्यार करती हैं तो अपने बच्चो और पति से प्यार नहीं करती होंगी अगर अपने बच्चो से ज्यादा प्यार करती है तो आपसे काम करती हैं ।

इसलिए पिता जी एक बेटी को अपने पिता से जितना प्यार होना चाहिए उतना जरूर करती हूं। हम  कितना और क्यों प्यार करते हैं ये बता नहीं सकते है 





कोई टिप्पणी नहीं

Gallery