बिहार विधानसभा चुनाव 2020

बिहार विधानसभा चुनाव 2020 

कुछ दिनों पहले  निवार्चन आयोग ने यह कह के स्पष्ट कर दिया की बिहार में इस बार चुनाव होंगे पर कोरोना के इस समय में क्या चुनाव करवाना ठीक होगा।  केंद्र सरकार के  अमित शाह ने बिहार के दौरे से यह स्पष्ट हो जाता है की चुनवा अक्टूबर और नवंबर में होंगे।वह  इसलिए क्यों की वर्तमान की बिहार विधानसभा का कार्यकाल नवंबर में समाप्त हो रहा है इसलिए चुनाव करने पर जोर दिया जा रहा है। 

बिहार में कुल 242 सीटें हैं जिसमे से किसी भी पार्टी को लिए बहुतमत के लिए कुल 122 सीटें चाहिए। सभी सीटों पर बिहार के 5 प्रमुख पार्टीयो का बोल बाला है यह माना जा रहा है की इन पार्टी में से कोई जीतेगी यह पांच पार्टी (RJD, JDU, BJP, INC, LJP ) में से कोई एक इस बार के चुनवा में कुछ नया करेगी।  अब यह सवाल उठाता है की इस महामारी के दौर में चुनवा करवाना सही होगा तो बहुत सी पार्टिओं ने तो अभी ना चुनाव कराने पर जोड़ दे रही है पर केंद्र सरकार माने को तैयार नहीं हो रही है। बिहार क्या है ?

क्या इस  बार भी गठबधन की सरकार हो सकती है ?

जिस प्रकार से बिहार में एक एक कर सभी पार्टियों ने एक दूसरे से हाथ मिला रही है इसे देख कर लग रहा की गठबंधन करके ही कोई पार्टी बहुतमत लेने का प्रयास करेगी। ऐसा करने से  इसमें कौन सी पार्टी को कितना लाभ होगा वह आने वाला समय ही बतयगा।  इस बार RJD , BJP, LJP यह तीनो पार्टयों ने गठबंधन की सरकार बनाने की सोच रहे और इस बार के चुनवा में यह तीनो पार्टी साथ में चुनवा लड़ेगी ऐसा करने से क्या ये जीत पाएंगे यह कोई नहीं बता सकता है।  इस बार के चुनाव के लिए मुख्यमंत्री के लिए नीतीश कुमार को ही खड़ा करेगी यह स्पष्ट हो गया क्यों की इनके अलावा और कोई भी सही उम्दीवार नहीं दिख रहा है। बिहार क्या है ?

वही दूसरी तरफ जिसे बिहार में महागठबंधन भी कहा जा रहा है जिसमे कांग्रेस और लल्लू की पार्टी और अन्य बहुत सी पार्टयों  ने साथ में चुनाव लड़ने का निर्णय लिया है।  पर इनकी तरफ से कौन मुख़्यमंत्री के लिए  लड़ेगा यह अभी तक किसी भी नहीं कहा। 

कैसे होंगे प्रचार ?

यह कहा जा रहा है की इस माहमारी में चुनाव रैली हो पाना मुश्किल है तो चुनाव में प्रचार कैसे होगा ? चुनाव आयोग ने कहा है इस बार चुनाव प्रचार डिजिटल प्लेटफार्म के माध्यम से होगा पर दूसरा सवाल उठता है की बिहार में तो सिर्फ 30-40 % लोग ही इंटरनेट का इस्तमाल करते है तो यह कैसे हो पाएगा ? ऐसे में प्रचार करना मुश्किल तो है पर यह कहा जा रहा है की ये होने वाले चुनाव में इसे फयदा जरूर होगा। 


कैसे होगी वोटिंग ?

इस बार की वोटिंग में बहुत अंतर् आने वाला है क्योकि महामारी के कारण बहुत से बिहार के रहने वाले लोग अलग अलग राज्य से आपने घर वापस आये है तो उनके वोट इस बार काफी अंतर् ला सकते हैं।  लगभग 20 लाख लोग आपने घर वापस आये हैं तो उनके वोट बहुत महत्वपूर्ण बन जाते हैं।  चुनाव आयोग ने कहा है की जिन लोगो का वोटिंग कार्ड नहीं है उनके जल्दी ही बनाये जायेंगे। 


कोरोना की वजह से जो एरिया कॉन्टिनमेंट जोन में है वह पर घर तक EVM मशीन पहुँचने की सोच रहा है पर अभी तक कोई निर्णय नहीं लिया गया है।  कोरोना की वजे बूथ की संख्या बढ़ गई है यह कहा जा रहा है प्रति 1000 मतदाता पार एक बूथ होगा इसे यह होगा की बूथ की संख्या बढ़ जाएगी क्यूँकि बिहार में लगभग 7 करोड़ 50 लाख वोटर है इसे बूथ संख्या बढ़ना जरुरी है।  जो वुजुर्ग हैं 65 वर्ष से ऊपर हैं उनके लिए डाक से वोट की सोच रही है यह पहले 80  वर्ष से ऊपर वाले लोगो के लिए था पर कोरोना की वजह से इसे कम किया गया है। 





कोई टिप्पणी नहीं

Gallery