आखिर क्यों ? बार - बार चीन से झड़प हो रही है ?

आखिर क्यों ?

यह सवाल सब के मन में आ रहे है आखिर क्यों और ये करना जरूरी था या नहीं 
 
    आइए जानते हैं आखिर क्यों ?



15 जून 2020 को रक्षा मंत्रालय यह बयान दिया की बीते रात भारत और चीन के साथ एक झड़प हुई है जिसमें भारत के 3 जवान मारे गए है बाद में रात फिर एक बयान आया कि जो जवान घायल थे वह 17 जवान भी शहीद हो गए हैं मतलब झड़प में 20 जवान मारे गए ।


ना गोली चली ना हुआ युद्ध फिर भी 45 सालो बाद पहली बार किसी की जान गई आखिर क्यों?

भारत और चीन के बीच में बार बार झड़प क्यों हो रहा है  
 
वैसे तो 1962 के बाद 1970 में किसी जवान की जान गई थी  आखिर बार 1975 में आखिरी बार गोली चली उसके बाद उस वक़्त के प्रधानमंत्री ने भारत और चीन के बीच में LAC पर गोली ना चलाने पर समझौता हुआ  जो आज तक कायम है ।

ये सिर्फ सीमा विवाद है या इसके पीछे और कोई कारण है । कारण तो बहुत सारे है वह हमरी इतिहास के अंदर है उन वजह को उस समय नहीं सुलझाया गया जिसके कारण अब परेशानी हो रही है । आप इतिहास के बड़े में पता करे आखिर ऐसा क्यों हो रहा है । 

अभी हम ये जानते है अभी के क्या कारण है 
भारत का बोलना है कि चीनी जवान भारत सीमा के अंदर बार बार आ जा रहे है वह क्यों आ रहे है क्यों की भारत सीमा पर सड़क बना रहा है चीन का बोलना है अवैध रूप से हो रहा है वहीं चीन भी सीमा अनेक निर्माण करे जा रहा । चीन ने वहां भी निर्माण कर दिया है जहां भारत और पाकिस्तान का POK पर जमीन को लेकर विवाद चल रहा है क्यों की पाकिस्तान का वह हिस्सा भारत का हैं

कारण तो बहुत सारे है पर को कुछ दिन पहले जो हुआ वह क्या होना चाहिए था ?

बहुत से जानकर का ये कहना है कि आज विश्व महामरी चल रही है जिसे हम कोरोनावायरस बोलते है  उसका जो कारण है चीन है बहुत से देश इस वजह नाराज़ है ओर वह अपनी कंपनी को चीन से बंद कर देना चाहते है क्यों कि चीन में श्रम सस्ते दर पर मिल जाते है उत्पादन बहुत मात्रा में होती है अगर ये सभी कंपनी चीन से अलग हो जाती है तो चीन की पूरी अर्थव्यवस्था बदल सकती है चीन को बहुत नुकसान होगा
तो अब सवाल उठता है कि इसे हमरे देश से क्या लेना देना
लेना देना है क्यों कि चीन के बाद अगर श्रम सस्ते दर पर जहा मिलेगा वह भारत ही है तो पूरा मुमकिन है कि वह कंपनी भारत में निवेश जरूर करेगी जो चीन को अच्छा नहीं लगेगा । वह इसलिए भी भारत से नाराज़ है ।




दूसरी और प्रमुख वजह जो मनी जा रही है 

वह ये है कि कुछ महीने पहले जब अमित शाह ने जमू - कश्मीर
से धारा 370 खत्म करा था तो अपने भाषण में ये कहा कि जब हम जम्मू कश्मीर का नाम लेते है तो मतलब POK और Cok मतलब वह हिस्सा जो दोनों देशों ने कब्जा कर रखा है ।  ये बात चीन को अच्छी नहीं लगी उसके बाद यह कहा जाने लगा कि चीन ने अपनी सीमा पर जवान कि संख्या को बढ़ने लगा ।

तीसरा जो कारण है वह ये है कि 

भारत ने कुछ सालो से बॉर्डर पर रोड  बना रहा है जिसे बॉर्डर पर जवानों को जरूरी सहयाता पहुंचाई जा सके । मगर चीन का ये कहेना है कि भारत जो निर्माण कर रहा है वह गलत है । ऐसे ही चीन भी निर्माण का काम तेजी से चल रहा है जिसे दोनों  देशों में टकराव हो रहे है दोनों देश में कौन सही है ये बोल पना बहुत मुश्किल है क्यंकि वहां को आर्मी और सरकार को पता है कि  चल क्या रहा है ।

सब के मन में है सवाल जरूर आता है क्या ये सही हो रहा है ऐसा होना जरूरी था इस सावल का जवाब सबके पास आलग अालग है 

गलवान घाटी में को हादसा हुआ जिसमें भारत के 20 जवान और चीन के 43 जवान मारे गए मगर चीन ने ये माने से मना कर दिया कि उनके जवान कितने मारे गए।

पिछले 5 हफ्तों से गालवान घाटी भारत के जवान ओर चीन जवान आमने सामने थे उसके बाद आपसी सहमति दोनों देश के जवान पीछे होने लग गए थे मगर उसी वक़्त वहां क्या हुआ वह किसी को नहीं पता केवल आर्मी को पता है । इस वजह को लोगो को नहीं बताया गया मगर चीन का बोलना है भारत के जवान उनके सीमा के अंदर आ गए थे ।

भारत सरकार ने ये आदेश दे दिया है बॉर्डर पर होने वाली गतिविधियों का फैसला को वहां ले सकती है उनको जो करना है वह कर सकते है ।
खैर आगे क्या हो किसी को नहीं पता ।

खुद का मेरे मन से एक सवाल है और आप लोगो से जो इसे पढ़ रहे है कि:-

क्या ये सही है ?
जमीन के कुछ हिस्से के लिए दोनों देश के जवान मारे गए । क्या उनकी कुर्बानी जायज थी कि दोनों देश इस लिए लड़ाई कर रहे है कि वह हिस्सा मेरा है मगर जो जवान मारता है कभी उसके घर जाके किसी ने पुछा की आपके पति , बेटा ,पिता , भाई का मरना सही था । अब आपके हालात कैसे है कोई नहीं जाना चाहता कि जवान के मारने के बाद उसका परिवार कैसे है कोई नहीं पूछता। 

फिर भी मेरा देश महान है और मुझे इसे प्यार है ।


कोई टिप्पणी नहीं

Gallery