"घर पर ही है कोरोना का इलाज "

हां आपने सही सुना ! कोरोना वायरस से डरना नहीं है बल्कि इसका सामना करना है । यह तो आपने बहुत बार सुना है कि डरना नहीं है पर इसका सामना कैसे करना है ये नहीं पता है ।




आज के समय में यह विश्व महामारी का दौर चल रहा है विश्व में किसी को भी इसका पूर्ण रूप से इलाज नहीं पता है 

डॉक्टर भी इसका इलाज नहीं ख़ोज पाए हैं
तो हमे क्या करना है हम बस इस बीमारी से घबराना नहीं है ना डरना है  बल्कि इसका सामना करना है ।


कोरोना होने पर क्या करना है ।
  1. अगर कोरोना वायरस किसी को हो जाता है तो सबसे पहले जो उसको करना है वह है कि उसे दिमागी रूप से उसे अपने आप को तैयार करना होगा । उस इंसान को यह समझना होगा इसको आम बीमारी कि तौर पर सोचे है आपने आप को तानव में ना ले इसके बारे में बार बार ना सोचे इसे क्या होगा कि हमरा शरीर उस बीमारी से लड़ने लग जाएगा हम कुद को ठीक कर लेंगे ।



 



2.  डॉक्टर से सलाह लेनी है कि हमरी हालात कैसी है ।हम अपने आप को घर पर ठीक कर सकते है या नहीं डॉक्टर से हम  बात सरकार के द्वारा दी गई हेलप्लाइन से कर सकते है जितना हो सके हॉस्पिटल नहीं जाना है घर पर बस आराम करना है ।


3. गर्म पानी से गरारे करें । गर्म पानी ही पिए , पानी जितना हो उतना पिए और गर्म पानी में पुदीना डाल कर उसका भाप लें।

4. आयुर्वेद  में  इसका इलाज तो है पर पूर्ण रूप से इस वायरस को खतम कर दे इसका इलाज कहीं नहीं है इस बिमरी को हम कम कर सकते है । अपनी प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा कर इसके लिए हमें तुलसी, लंग , इलायची, अदरक, गुड़, कली मिर्च, दाल चीनी, आदि मसालों वाली चाय बना कर पी सकते है।


इसे क्या होगा की हमरी बीमारी से बचाव कर सकता है ।

अदरक वाली चाय से भी प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है । हल्दी वाला दूध रोज पिए । खट्टे फल जादा खाय। विटामिन सी वाली चीजे आधिक लें । 





5.   सबसे जरूरी बात है कि जिसको कोरोना हुआ है वह अपने आप को घर वालों से अलग कर ले एक अलग कमरे में बंद हो जाए उस कमरे से कम निकले । अगर उस मरीज़ को बुखार तेज है तो उस मरीज़ को तीन वक्त बुखार की दवाई ले सकता है । बुखार तेज होने बुखार mg को बदलवा कर सकता है । 
डॉक्टर का बोलना है कि कोई भी मरीज़ का बुखार तीन दिन में धीरे धीरे ठीक होने लग जाता है ।कोई मरीज़ सोचे कि दवाई खा ली कल तक ठीक हो जाएगा ये वायरस वैसा नहीं है इसमें वक्त लगता है ठीक होने में और कुछ दिनों मरीज़ पूरी तरह ठीक हो जाता है ।
 
मरीज़ को जितना हो सके उसे उस कमरे से बाहर काम आना चाहिए । मास्क लगाए रखना चाहिए हो सके तो हर दिन मस्क बदल ले । नहीं तो गर्म पानी से मास्क को धोए और जितना हो सके अपना काम खुद करे जितना हो सके आराम करे ।


क्या नहीं करना चाहिए।

कोरोनावायरस हो जाने उस डर से हॉस्पिटल कि ओर नहीं भागना है । हॉस्पिटल की हालत बहुत खराब हो चुकी है तो घर पर सबसे अलग हो जाए ।

खाना नियमित रूप से करना है भूखे नहीं रहना भूखे रहने पर ये बीमरी और नुकसान देती है ।




कोई टिप्पणी नहीं

Gallery